34 C
Mumbai
Wednesday, October 27, 2021
Homeउत्तर प्रदेशजेल में है आजमखान पं. दीनदयाल की प्रतिमा को खंडित करने का...

जेल में है आजमखान पं. दीनदयाल की प्रतिमा को खंडित करने का हैआरोप। वलदेव सिंह।

यू.पी.रामपुर(ब्यूरो) राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख ने बयान दिया है कि पूर्व मंत्री आजम खान ने सपा सरकार में पंडित दीन दयाल उपाध्याय की प्रतिमा को हटवाया था और आज वह उसी की सजा भुगत रहे हैं।

रामपुर। चौक पर स्थापित पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा से रास्ता बाधित नहीं था लेकिन पूर्व मंत्री आजम खान ने सपा सरकार में यह कहते हुए उनकी प्रतिमा को हटवा दिया था कि प्रतिमा से रास्ता बाधित हाे रहा है। आज वह इसी की सजा भुगत रहे हैं।

यह बात रविवार काे राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख ने कही। दरअसल उत्तर प्रदेश में जब समाजवादी पार्टी की सरकार थी तो उस समय रामपुर में दीनदयाल चौक से पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा को हटवा दिया गया था। इस प्रतिमा का अब एक बार फिर से सौंदर्यीकरण का कार्य चल रहा था। कार्य पूरा होने पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी रामपुर पहुंचे और उन्होंने प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

इस दौरान उन्होंने बताया कि वर्ष 1999 में भी उन्होंने ही रामपुर में पंडित दीन दयाल उपाध्याय की प्रतिमा का माल्यार्पण किया था। इस मौके पर मौजूद रहे राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख ने कहा कि पंडित दीनदयाल की प्रतिमा पहले चौंक पर लगी थी लेकिन उस समय आजम खान ने रातों-रात प्रतिमा को वहां से हटाकर हाईवे किनारे रखवा दिया था। आज वह इसी की सजा भुगत रहे हैं।


जानिए पूरा मामला
दरअसल जब वर्ष 2005 में जब प्रतिमा को हटावाया गया था तो भाजपाइयों ने इसका जमकर विरोध किया था। उस समय पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा को हटाए जाने का आंदोलन राष्ट्रीय स्तर पर फैल गया था और भाजपा नेताओं ने अपनी गिरफ्तारियां भी दी थी। बावजूद इसके प्रतिमा को वापस उस स्थान पर नहीं लगाया जा सका था। इस वर्ष जनवरी में प्रतिमा को पार्क में शिफ्ट कर दिया गया। वहां पूरे पार्क का सौंदर्यीकरण किया गया और प्रतिमा का माल्यार्पण भी किया गया।

अब पार्क और प्रतिमा काे सैन्दर्यीकरण का पूरा होने के बाद केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी माल्यार्पण के लिए रामपुर पहुंचे थे। लॉक डाउन के चलते कार्य की रफ्तार थोड़ी धीमी हो गई थी लेकिन अब कार्य पूरा कर लिया गया है। इसी मौके पर यह बयान आया है। राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख ने साफ शब्दों में कहा है कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति पहले रोड के बीच में लगी हुई थी लेकिन रास्ता बाधित नहीं था बावजूद इसके जानबूझकर प्रतिमा को खंडित कराया गया और बाद में हटवाकर हाईवे किनारे रखवा दिया गया। आज जब आजम खान जेल में है तो वह इसी की सजा भुगत रहे हैं उन्होंने यह भी कहा कि महापुरुषों की प्रतिमाओं से किसी भी पार्टी के लाेगाें काे छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए।

साभार

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments