26 C
Mumbai
Tuesday, October 26, 2021
Homeदेश-विदेशअमरीका, ईरान पर हमले की तैयारी कर रहा है! तो क्या हो...

अमरीका, ईरान पर हमले की तैयारी कर रहा है! तो क्या हो जाएगी भिड़ंत?

रिपोर्ट – सज्जाद अली नयाने

इस्राईल से प्रकाशित होने वाले यरुश्लम पोस्ट ने दावा किया है कि अमरीका, ईरान पर सीमित हमला करने की तैयारी कर रहा है।

विदेश – स्पूतनिक न्यूज़ एजेन्सी ने बताया है कि यरुश्लम पोस्ट ने संयुक्त राष्ट्र संघ में एक पश्चिमी सूत्र के हवाले से बताया है कि अमरीका, ईरान के एक परमाणु प्रतिष्ठान पर, सीमित हमला करना चाहता है।

यरुश्लम पोस्ट ने दावा किया है कि बहुत बड़ा धमाका होगा लेकिन एक विशेष लक्ष्य को ही भेदने तक सीमित होगा।

इस्राईल और सऊदी अरब टकराव के इच्छुक हैं।

इस्राईली अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, डोनाल्ड ट्रम्प इस विचार के समर्थक नहीं हैं लेकिन ईरान पर हमला करने का आग्रह करने वाले अमरीकी विदेशमंत्री ने यह योजना तैयार कर ली है।

याद रहे इस्राईल और सऊदी अरब, ईरान व अमरीका के मध्य टकराव की पूरी कोशिश कर रहे हैं हालांकि अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प, किसी भी टकराव से पीछे हटने की घोषणा कर चुके हैं।

इस्राईली समाचार पत्र ने यह दावा एसी दशा में किया है कि जब ईरान ने बहुत पहले की स्पष्ट कर दिया है कि छोटी या बड़ी किसी भी प्रकार की कार्यवाही का व्यापक रूप से और भरपूर जवाब दिया जाएगा।

इस्राईल और सऊदी अरब, ईरान के खिलाफ माहौल एसी दशा में बना रहे हैं कि जब आईआरजीसी के जनरल, रमज़ान शरीफ ने कहा है कि अमरीका और इस्राईल, सब से कमज़ोर पोज़ीशन में हैं।

ईरानी सेनाध्यक्ष जनरल बाक़ेरी भी कह चुके हैं कि ईरान जब चाहेगा हुरमुज़ स्ट्रेट से तेल सप्लाई रोक देगा और यह काम डंके की चोट पर करेगा।

अमरीका के लेखक और विश्लेशक स्टीफन लैंडमैन ने भी कहा है कि ट्रम्प को यह भय है कि ईरान के साथ संभावित युद्ध में, अमरीकी सैनिकों के शव, उन्हें अगले राष्ट्रपति काल तक पहुंचने से रोक देंगे।

कई किताबों के लेखक स्टीफन लैंडमैन ने कहा कि ईरान के मामले में ट्रम्प और बोल्टन व पोम्पियो के मध्य बहुत मतभेद है और मैं पहले भी बोल्टन पर टिप्पणी करते हुए कह चुका हूं कि कोई एसा देश बचा नहीं है जिस पर वह हमला करना चाहते हों चाहे वह ईरान हो, वेनेज़ोएला हो या उत्तरी कोरिया।

उन्होंने कहा कि ट्रम्प, बिना युद्ध के ईरान से निपटना चाहते हैं क्योंकि उनके लिए आगामी राष्ट्रपति चुनाव महत्वपूर्ण हैं और यह डर है कि ईरान, अमरीका को युद्ध के दलदल में फंसा कर और अधिक संख्या में अमरीकी सैनिकों के शव अमरीका भेजकर उन्हें, एक ही काल का राष्ट्रपति बना दें क्योंकि मीडिया भी उनका विरोधी है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments