26 C
Mumbai
Tuesday, October 26, 2021
Homeमध्य प्रदेशशिवराज के लिए दोहरी शर्मिन्दगी और कमलनाथ सरकार के लिये सवाल !

शिवराज के लिए दोहरी शर्मिन्दगी और कमलनाथ सरकार के लिये सवाल !

रिपोर्ट – प्रदीप मांढरे

मध्यप्रदेश – कमलनाथ सरकार से पूछा जाना चाहिए कि उसने दो धनाढ्य किसान रोहित सिंह और निरंजन सिंह का कर्जा कैसे माफ कर दिया?, जबकि सरकार की नीति के तहत गरीब किसानों के कर्जे ही माफ किये जा सकते हैं।

ये दोनो किसान 15 साल तक मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिंह चौहान के रिश्ते में भाई और चाचा के लड़के हैं। इन संबंधों के आधार पर ही दिख रहा है कि ये गरीब किसान तो होंगे नहीं।

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को ग्वालियर में चुनावी सभा मेें फक्र से कहा कि हमने शिवराज के रिश्तेदारों के कर्जे माफ किए हैं फिर भी शिवराज झूठ बोलते हैं कि किसानों के कर्जे माफ नहीं हुए।

क्या सरकार को यह त्वरित कदम नहीं उठाना चाहिए थे कि अमीर किसानों के कर्ज केैसे माफ हो रहे हैं?, इसकी जांच कराई जाए ।

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए तो दोहरी शर्मिन्दगी है कि उनके भाई रोहित और सगे चाचा के बेटे निरंजन का कर्ज माफ हो गया। चुनावी दौर में जनता के बीच प्रचारित हो गया कि किसानों के कर्ज माफ हो तो रहे हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए तो दोहरी शर्मिन्दगी है कि उनके भाई रोहित और सगे चाचा के बेटे निरंजन का कर्ज माफ हो गया। चुनावी दौर में जनता के बीच प्रचारित हो गया कि किसानों के कर्ज माफ हो तो रहे हैं।

और दूसरा, यदि रोहित और निरंजन गरीब किसान हैं तो यह शिवराज के लिए तो और भी शर्मिन्दगी की बात है, जो अपने मुख्यमंत्रित्व काल में खेती को मुनाफे का धंधा बनाने का ढिंढोरा पीटते रहे।

कई बड़े लोग प्रदेश में किसान हैं। इनमें अमिताभ बच्चन भी हैं । अनेक आईएएस अफसर हैं, जो सेवानिवृत हो गए हैं और खेती की जमीन के मालिक हैं।

जब पूर्व मुख्यमंत्री के संबंधियों के कर्जे माफ हो रहे हैं , तो और भी मालदार किसानों के हुए होंगे। शासन को चाहिए कि चुनाव के बाद इसकी विस्तृत जांच कराए। कर्ज माफी का लाभ सिर्फ वास्तविक गरीब किसानों को मिलना चाहिए।

वर्ना इसका वैसा हाल हो जाएगा, जैसा बीपीएल(गरीबी की रेखा से नीचे)कार्ड योजना का हुआ। इसकी लिस्ट में लाखों अमीर जुड़ गए, जो गरीबों को मिलने वाले एक रूपये किलो अनाज,200 रूपये महीना बिजली व अन्य सरकारी योजनाओं का लुफ्त उठा रहे हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments