32 C
Mumbai
Wednesday, October 27, 2021
Homeसप्तरंगीकलयुगी बन जाइये ! - अजय एहसास

कलयुगी बन जाइये ! – अजय एहसास

-शीर्षक-


घोर कलयुग है भइये, समय के साथ चलिएकुछ बनों या ना बनों पर कलयुगी बन जाइये।।सारा हुनर कारीगरी, चालाकियां और होशियारीआपका अपना है सब, जब चाहें तब अपनाइयेजब दूसरे की बात हो , मासूम सा बन जाइयेकुछ बनों या ना बनों पर ,कलयुगी बन जाइये।।
खुद न बंधना नियम से, बस दूसरों पर थोपियेतलवार नियमों की चले, जो मानें उसको भोकियेखुद पर जो लागू भी न हो, कानून ऐसे बनाइयेकुछ बनों या ना बनों पर, कलयुगी बन जाइये।।
बात ना कभी काटिए, सुन लीजिए खामोश होकमियां बताओ सभी की, चाहें तुम्हारा दोष होआपस में सब लड़ते रहे, बस नीति ये अपनाइयेकुछ बनों या ना बनों पर कलयुगी बन जाइये।।
पेमेन्ट कम हो काम हो, सम्मान हो और नाम होबस काम अपना निकालिए, सन्नाम या बदनाम होकाम सब बन जाये, थोड़ी चापलूसी लाइयेकुछ बनों या ना बनों पर कलयुगी बन जाइये।।
वक्त की करवट को समझें, आप अब हैं नही बच्चेदेखकर मुंह बात करके, आप भी बन जाये अच्छेेगले मिलकर पीठ पीछे, छूरियां चलाइयेकुछ बनों या ना बनों पर कलयुगी बन जाइये।।
जो किया एहसास मैने, आपको सब बता दियाजो न कर पाया अभी तक, आपको वो सुझा दियाबात मेरी मानिए, इसको अमल में लाइयेकुछ बनों या ना बनों पर कलयुगी बन जाइये।।                      

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments